Modi hails Odisha ASHA worker for fighting against Malaria


BHUBANESWAR: Prime Minister Narendra Modi on Sunday praised an ASHA worker from Odisha’s Balesore district for her fight against Malaria in her locality during his ‘Mann Ki Baat’ programme.

“We have a network of ASHA workers in our country. Neither I nor you would have hardly heard or talked about ASHA workers. We had conferred Padma Bhusan to Bill and Melinda Gates last year for their contribution to social work through their Foundation. The duo heaps praise on the ASHA workers for their hard work and dedication towards their work,” said Modi in his radio programme.Narendra Modi

“One such ASHA worker serves in a small Odisha village called Tendagaon, malaria infested region. Jamuna Mani Singh has resolved not to allow a single malaria related death in the village. I honor all Asha workers through Jamuna Muni,” said PM Modi.

“Jamuna Mani Singh with her full dedication and extra ordinary efforts prepared the people in her village to fight malaria. She spread awareness about precautions and helped the entire village during tough times,” he said.

It is to be noted that Odisha government felicitated Jamuna Mani Singh in a special function recently.

 

Here is the speech of Prime Minister Narendra Modi on Jamuna Mani Singh

पिछले दिनों उड़ीसा गवर्नमेंट ने एक ASHA Worker का स्वतंत्रता दिवस पर विशेष सम्मान किया। उड़ीसा के बालासोर ज़िले का एक छोटा सा गाँव तेंदागाँव एक आशा-कार्यकर्ता और वहाँ की सारी जनसंख्या शिड्यूल-ट्राइब की है। अनुसूचित-जनजातियों के वहाँ लोग हैं, ग़रीबी है। और मलेरिया से प्रभावित क्षेत्र है। और इस गाँव की एक आशा-वर्कर “जमुना मणिसिंह” उसने ठान ली कि अब मैं इस तेंदागाँव में मलेरिया से किसी को मरने नहीं दूँगी। वो घर-घर जाना छोटे सा भी बुखार की ख़बर आ जाए तो पहुँच जाना।उसको जो प्राथमिक व्यवस्थायें सिखाई गई हैं उसके आधार पर उपचार के लिए लग जाना।

हर घर कीटनाशक मच्छरदानी का उपयोग करे उस पर बल देना। जैसे अपना ही बच्चा ठीक से सो जाये और जितनी केयर करनी चाहिए वैसी ASHA Worker “जमुना मणिसिंह” पूरा गाँव मच्छरों से बच के रहे इसके लिए पूरे समर्पण भाव से काम करती रहती हैं। और उसने मलेरिया से मुकाबला किया, पूरे गाँव को मुकाबला करने के लिए तैयार किया।ऐसे तो कितनी “जमुना मणि” होंगी। कितने लाखों लोग होंगे जो हमारे अगल-बगल में होंगे। हम थोड़ा सा उनकी तरफ़ एक आदर भाव से देखेंगे।ऐसे लोग हमारे देश की कितनी बड़ी ताकत बन जाते हैं। समाज के सुख-दुख के कैसे बड़े साथी बन जाते हैं। मैं ऐसे सभी ASHA Workers को “जमुना मणि” के माध्यम से उनका गौरवगान करता हूँ।